Select Page

Home Lyrics Do Khidkiyaan
Do Khidkiyaan

Do Khidkiyaan

280 VIEWS
Do Khidkiyaan Lyrics in Hindi | Do Khidkiyan Lyrics | Do Khidkiyan Yashraj

Do Khidkiyaan/Do Khidkiyan (दो खिड़कियाँ) is a Hindi track by Yashraj Mehra. Speaking about the song Yashraj says that “Do Khidkiyaan” resembles the two windows in his room and the two perspectives to every argument and point of view, एक किताब resembles the book of the mind or the book in which he pens down his thoughts. Yashraj’s Do Khidkiyaan lyrics in Hindi and in the romanized form are provided below.

Listen to the complete track on Spotify

बनना उसके जैसा, मानता नहीं लोगों को (मैं नहीं मानता)
उम्मीद रखने जितना जानता नहीं लोगों को
ये रिश्ते बनते पट्टे, क्यूँ समय-समय से खिंचते?
इसलिए जाने-अनजाने में मैं क्यूँ बाँधता नहीं लोगों को? (क्यूँ?)

डाँट दोनों को जो काटता और कटता भी
बात दोनों से जो बाँटता और बँटता भी
हाँ, सीखना है सबसे, फ़िर भी बनते क्यूँ हैं बदतमीज़?
ये सपनों का है खटखटाना, रात को दे थपथपी

है कुछ कमी तो लगती जब भी ज़िंदगी को जीते हम
लगता हम सबसे आगे, असल में पीछे हम
मेहनत का फ़ल है दिखता जब जड़ों से ज्ञान सींचे हम
वो खींचे हमको पीछे, सोचें गिरें सीधा नीचे हम, तो ढीठ हैं हम

उठना आदत सी है (सच)
दर्द सारे लिखना तो इबादत सी है
वो पूछें, “कब तक चलेगा ये सब?” ये मेरे सपने
ये तब तक चलेगा जब तक सब होते अपने

बंद कमरों के ख़ाब, दो थी खिड़कियाँ और एक किताब
बंद कमरों के ख़ाब, दो थी खिड़कियाँ और एक किताब

जो भी सारे करें पीठ पीछे बातें, खींचे नीचे आके
वो भी तो बकने के मौक़े ना छोड़ें (ना)
हम भी तो थकने के मौक़े ना छोड़ें
ये लंबी है दौड़, तो कभी ना आती ये चौड़
और लिया है कभी कुछ भीख में नहीं
जानता है तू भी कि तेरे campus वाले rapper
मेरे वाले league में नहीं

नसीब में नहीं है मेरा वाला flow (मेरा वाला flow)
तू जानता नहीं है bro, gig के बाहर
जो १६ पे १६ देके बनने लगे थे कितने दोस्त
कितने लोग जो जाने तुझे तेरे काम से पहले और नाम से बाद
ये so called “OGs”, तभी तो मुझे उनका यहाँ नाम नहीं याद

मैं मानूँ कि तू यहाँ independent (तो?)
तो गाने में master नहीं क्या?
पैसे तो diss वाले video में, हलका disaster नहीं क्या?
मैं करता नहीं ego की बात
वरना उड़ने लगेगी यहाँ सबकी खिल्ली
हम poles apart, ये East or West
जैसे चलता यहाँ Bombay, दिल्ली

पर ये सच नहीं, गाने बनाने तो रहते सब touch में ही
आई जो रुत नहीं, जो जानते वो जानते मैं लिखता सब सच भाई
हाँ, बोलना है बहुत कुछ, पर मुँह से निकलेगा आज कुछ नहीं
हाँ, बोलना है बहुत कुछ, पर मुँह से निकलेगा आज कुछ नहीं
बस डर यही बात का लगता है bro कि लोग सुनेंगे क्या

बंद कमरों के ख़ाब, दो थी खिड़कियाँ और एक किताब
बंद कमरों के ख़ाब, दो थी खिड़कियाँ और एक किताब

Banna uske jaisa, maanta nahi logon ko (Main nahi maanta)
Ummid rakhne jitna jaanta nahi logon ko
Yeh rishte bante patte, kyun samay-samay se khichte?
Isliye jaane-anjaane mein main kyun baandhta nahi logon ko (Kyun?)

Daant dono ko jo kaat’ta aur kat’ta bhi
Baat dono se jo baant’ta aur bant’ta bhi
Haan, seekhna hai sabse, phir bhi bante kyun hain badtameez?
Yeh sapno ka hai khatkhataana, raat ko de thapthapi

Hai kuch kami toh lagti jab bhi zindagi ko jeete hum
Lagta hum sabse aage, asal mein sabse peeche hum
Mehnat ka fal hai dikhta jab jadon se gyaan seenche hum
Woh kheechein humko peeche, sochein girein seedha neeche hum, toh dheeth hain hum

Uthna aadat si hai (Sach)
Dard saare likhna toh ibaadat si hai
Woh poochein, “Kab tak chalega yeh sab?” Yeh mere sapne
Yeh tab tak chalega jab tak sab hote apne

Band kamron ke khaab, do thi khidkiyaan aur ek kitaab
Band kamron ke khaab, do thi khidkiyaan aur ek kitaab

Jo bhi saare karein peeth peeche baatein
Kheechein neeche aake
Woh bhi toh bakne ke mauke na chhodein (Na)
Hum bhi toh thakne ke mauke na chhodein
Yeh lambi hai daud, toh kabhi na aati yeh chaud
Aur liya hai kabhi kuch bheekh mein nahi
Jaanta hai tu bhi ki tere campus waale rapper
Mere waale league mein nahi

Naseeb mein nahi hai mera wala flow flow (Mera wala flow)
Tu jaanta nahi hai bro, gig ke baahar
Jo 16 pe 16 deke banne lage the kitne dost
Kitne log jo jaanein tujhe tere kaam se pehle aur naam se baad
Yeh so called “OGs”, tabhi toh mujhe unka yahan naam nahi yaad

Main maanun ki tu yahan independent (Toh?)
Toh gaane mein master nahi kya?
Paise toh diss wale video mein, halka disaster nahi kya?
Main karta nahi ego ki baat
Warna udne lagegi yahan sabki khilli
Hum poles apart, ye East or West
Jaise chalta yahan Bombay, Dilli

Par yeh sach nahi, gaane banaane toh rehte sab touch mein hi
Aayi jo rut nayi, jo jaante woh jaante main likhta sab sach bhai
Haan, bolna hai bahut kuch, par muh se niklega aaj kuch nahi
Haan, bolna hai bahut kuch, par muh se niklega aaj kuch nahi
Bas dar yahi baat ka lagta hai bro, ki log sunenge kya?

Band kamron ke khaab, do thi khidkiyaan aur ek kitaab
Band kamron ke khaab, do thi khidkiyaan aur ek kitaab

Do Khidkiyaan Song Details:

Album : Do Khidkiyaan
Lyricist(s) : Yashraj Mehra
Composers(s) : Yashraj Mehra
Music Director(s) : Yashraj Mehra
Genre(s) : Hip-Hop/Rap
Music Label : Yashraj Mehra
Starring : Yashraj Mehra

Do Khidkiyaan Song Video:

Popular Albums

ALL

Albums

Similar Artists

ALL

Singers