Select Page

Home Lyrics Kachha Ghada
Kachha Ghada

Kachha Ghada

510 VIEWS
Kachha Ghada Lyrics | Kachha Ghada Lyrics in Hindi | Kachha Ghada Lyrics in English | Kachha Ghada Lyrics Rahgir

Kachha Ghada (कच्चा घड़ा) is a Hindi song by Rahgir. The song is penned, composed and sung by Rahgir, whereas Shubhodeep Roy has produced the music of the song. Rahgir’s Kachha Ghada lyrics in Hindi and in English are provided below.

Listen to the complete track on Spotify

एक कच्चा घड़ा हूँ मैं
एक कच्चा घड़ा हूँ मैं
फ़िर भी बरसात में खड़ा हूँ मैं

बूँदें बेरहम हैं, उनको ये वहम है
कि मैं टूट रहा हूँ, जो मैं चीख रहा हूँ
पर वो बेवकूफ़ हैं, मैं तो सीख रहा हूँ

ऐसे पहले भी लड़ा हूँ मैं
एक कच्चा घड़ा हूँ मैं

हम वो हैं जो क़िस्मत के चाँटों के शोर पे नाचते हैं
हम वो हैं जो क़िस्मत के चाँटों के शोर पे नाचते हैं
जितनी ज़ोर का चाँटा, हम उतनी ज़ोर से नाचते हैं

ये जो खिसक-खिसक के मैं आगे जा रहा हूँ
ये जो फ़िसल-फ़िसल के मैं पीछे आ रहा हूँ
ये जो पिघल-पिघल के मैं बहता जा रहा हूँ
ये जो सिसक-सिसक के मैं आहें भर रहा हूँ

नीचे हैं खाइयाँ, और मैं काँप रहा हूँ
पर ज़िंदा हूँ अभी, अभी हाँफ़ रहा हूँ

ऐसे पहले भी चढ़ा हूँ मैं
एक कच्चा घड़ा हूँ मैं

एक तो राहों में बबूल बहुत हैं
उसके ऊपर से अपने उसूल बहुत हैं
उसके ऊपर से लोग टोकते रहते हैं
कि Rahgir भाई, उधर जाओ
उधर फूल बहुत हैं

ये जो हँस रही है दुनिया मेरी नाकामियों पे
ताने कस रही है दुनिया मेरी नादानियों पे
पर मैं काम कर रहा हूँ मेरी सारी खामियों पे
कल ये मारेंगे ताली मेरी कहानियों पे

कल जो बदलेगी हवा, ये साले शरमाएँगे
“हमारे अपने हो,” कह के ये बाँहें गरमाएँगे

क्योंकि ज़िद्दी बड़ा हूँ मैं
एक कच्चा घड़ा हूँ मैं
फ़िर भी बरसात में खड़ा हूँ मैं

बूँदें बेरहम हैं, उनको ये वहम है
कि मैं टूट रहा हूँ, जो मैं चीख रहा हूँ
पर वो बेवकूफ़ हैं, मैं तो सीख रहा हूँ

ऐसे पहले भी लड़ा हूँ मैं
एक कच्चा घड़ा हूँ मैं

Ek kachha ghada hoon main
Ek kachha ghada hoon main
Fir bhi barsaat mein khada hoon main

Boondein berehem hain, unko yeh vehem hai
Ke main toot raha hoon, jo main cheekh raha hoon
Par woh bewakoof hain, main to seekh raha hoon

Aise pehle bhi lada hoon main
Ek kachha ghada hoon main

Hum woh hain jo qismat ke chaanton ke shor pe naachte hain
Hum woh hain jo qismat ke chaanton ke shor pe naachte hain
Jitni zor ka chaanta, hum utni zor se naachte hain

Yeh jo khisak-khisak ke main aage ja raha hoon
Yeh jo fisal-fisal ke main peeche aa raha hoon
Yeh jo khisak-khisak ke main aage ja raha hoon
Yeh jo fisal-fisal ke main peeche aa raha hoon

Neeche hain khaaiyan, aur main kaanp raha hoon
Par zinda hoon abhi, abhi haanf raha hoon

Aise pehle bhi chadha hoon main
Ek kachha ghada hoon main

Ek toh raahon mein babool bahut hain
Uske oopar se apne usool bahut hain
Uske oopar se log tokte rehte hain
Ke Rahgir bhai, udhar jaao
Udhar phool bahut hain

Yeh jo has rahi hai duniya meri naakamiyon pe
Taane kas rahi hai duniya meri naadaniyon pe
Par main kaam kar raha hoon meri saari khaamiyon pe
Kal yeh maarenge taali meri kahaniyon pe

Kal jo badlegi havam, yeh saale sharmayenge
“Humare apne ho,” keh ke yeh baahein garmayenge

Kyonki ziddi bada hoon main
Ek kachha ghada hoon main
Fir bhi barsaat mein khada hoon main

Boondein berehm hain, unko yeh vehem hai
Ke main toot raha hoon, jo main cheekh raha hoon
Par woh bewakoof hain, main to seekh raha hoon

Aise pehle bhi lada hoon main
Ek kachha ghada hoon main

Kachha Ghada Song Details:

Album : Kachha Ghada
Lyricist(s) : Rahgir
Composers(s) : Rahgir
Music Director(s) : Shubhodeep Roy
Genre(s) : Indian Pop
Music Label : Rahgir Live
Starring : Rahgir

Kachha Ghada Song Video:

Popular Albums

ALL

Albums

Similar Artists

ALL

Singers