Select Page

Home Lyrics Khamoshi
Khamoshi

Khamoshi

1
374 VIEWS
1

Khamoshi (खामोशी) is a romantic Hindi song sung by Sahil Sharma, The lyrics of the song are penned by Hemant Vijh. Sahil Sharma’s Khamoshi lyrics in Hindi and in romanized form are provided below.

Listen to the complete track on Spotify

ये खामोशी कहती तुम्हारी है
यक़ीं इतना, इतना ही काफ़ी है
हो तुम उस तरफ़ खामोश
पर ये आवाज़ आती है
रहे साँसों की सरग़ोशी, ये साथ काफ़ी है

अब तुम से ये बात हो-न-हो
हर वक्त अहसास काफ़ी है
अब तुम से ये बात हो-न-हो
हर वक्त अहसास काफ़ी है

जवाँ खामोशियों का ज़िक्र बयाँ लफ़्ज़ों में कैसे हो?
नहीं हो तुम मेरी मंज़िल यक़ीं मुझ को ये कैसे हो?
यूँ ही होंठों पे रख दो ये होंठ, ये झूठा ख़्वाब काफ़ी है

अब तुम से ये बात हो-न-हो
हर वक्त अहसास काफ़ी है
अब तुम से ये बात हो-न-हो
हर वक्त अहसास काफ़ी है

दबी-दबी, खामोश कहानी है
बस साँसों से सुनानी है
अधूरी हो या पूरी हो, कहानी फ़िर कहानी है
चलो उस मोड़ तक तुम साथ-साथ
सफ़र इतना ही काफ़ी है

अब तुम से ये बात हो-न-हो
हर वक्त अहसास काफ़ी है
अब तुम से ये बात हो-न-हो
हर वक्त अहसास काफ़ी है

Ye khamoshi kehti tumhari hai
Yakeen itna, itna hi kaafi hai
Ho tum us taraf khamosh
Par yeh aawaaz aati hai
Rahe saanson ki sargoshi, yeh saath kaafi hai

Ab tum se yeh baat ho-na-ho
Har wakt ehsaas kaafi hai
Ab tum se yeh baat ho-na-ho
Har wakt ehsaas kaafi hai

Javaan khamoshiyon ka zikr bayaan lafzon mein kaise ho?
Nahi ho tum meri manzil, yakeen mujhko yeh kaise ho?
Yoon hi honthon pe rakh do yeh honth, yeh jhootha khwaab kaafi hai

Ab tum se yeh baat ho-na-ho
Har wakt ehsaas kaafi hai
Ab tum se yeh baat ho-na-ho
Har wakt ehsaas kaafi hai

Dabi-dabi, khamosh kahaani hai
Bas saanson se sunaani hai
Adhoori ho ya poori ho, kahaani phir kahaani hai
Chalo uss mod tak tum saath-saath
Safar itna hi kaafi hai

Ab tum se yeh baat ho-na-ho
Har wakt ehsaas kaafi hai
Ab tum se yeh baat ho-na-ho
Har wakt ehsaas kaafi hai

Khamoshi Song Details:

Album : Khamoshi

Khamoshi Song Video:

Popular Albums

ALL

Albums

Similar Artists

ALL

Singers