Select Page

Home Lyrics Mutaasir
Mutaasir

Mutaasir

640 VIEWS
Mutaasir Lyrics | Mutaasir Lyrics in Hindi | Mutaasir Lyrics in English | Mutaasir Lyrics Talhah Yunus

Mutaasir (मुतासिर) is an Urdu song from the album Khana Badosh by Jokhay, Nabeel Akbar, JJ47, Talhah Yunus. Jokhay’s Mutaasir lyrics in Hindi and in English are provided below.

Listen to the complete track on Spotify

आँखें बंद, सोचें जारी
कैसे बयाँ करूँ लफ़्ज़ों में ज़िंदगानी?
कैसे शाया करूँ आँखों से बहता पानी?
कैसे बताऊँ है दिखावे की ये ख़ुशहाली?

काँपता जिस्म, जब भी निकलूँ ख़ुद की तलाश में
पास ना कोई, देखता था ख़ुद को अपने बाप में
वो भी ना रहा, मैं किस को देखूँ अपने आप में?
अब माँ ही मेरा साया, वर्ना था एक ज़िंदा लाश मैं

क्या सब ला-हासिल है?
ख़्वाहिशें थीं बहुत, ज़िक्र करने से अब क़ासिर हैं
कोई यहाँ कामिल नहीं, सीखते ख़ताओं से
महँगे पड़े शौक़, पर हम ठहरे उन पर क़ादिर हैं

ज़माना नासिर है, गवाह मेरे फ़न का
प्यार मिलता इतना, क्या मैं लायक हूँ इस सब का?
शुक्र-गुज़ार हूँ कि मिले मुझे लोग ऐसे
वही लोग जिनसे राब्ता मेरा मज़बूत था

जाने इस दिन के लिए हमने दिन देखे कैसे-कैसे
कोई अपने नाम पे कीचड़ उछले, ऐसे कैसे?
कुछ रिश्ते ख़ून के नहीं, पर हैं बढ़ के ख़ून से
एक-दूजे को देके सहारा हम ख़ुद जैसे-तैसे

तय किया सफ़र, जिधर को कोई रस्ता जाता नहीं था
जिनको लगता था कल तक मुझको तो कुछ आता नहीं था
उन्हीं के मुँह से अपनी तारीफ़ें अब सुनता हूँ मैं
बताने के लिए शुक्रिया कि कितना उम्दा हूँ मैं

दर-असल बात ये कि हमने हालात देखे
पल में पलटते लोगों के सरों से ताज देखे
एक बार जो उतरे दिल से, लाख कोशिश कर ले फिर तू
अब नहीं रुकने वाला, चाहे रोके कोई आवाज़ देके

सच्चाई ये कि कोई नहीं मेहनत करना चाहता
सबको चाहिए वक़्त से पहले, हद से ज़्यादा
दिल में मैल, कैसे मुँह पे बन के आते मीठे
पीठ पीछे भड़वतें, एक-दूजे की ख़ुद टाँगें खेंचें

वो मुतअस्सिर मेरी वफ़ा से
ख़ुलूस भरा, हिलता कैसे अपनी जगह से?
वो कैसे मुझे दग़ा दें?
शायरी से ज़र्फ़ दें, भाई, और लिखो सज़ा ये

वो मुतअस्सिर मेरी वफ़ा से
ख़ुलूस भरा, हिलता कैसे अपनी जगह से?
वो कैसे मुझे दग़ा दें?
शायरी से ज़र्फ़ दें, भाई, और लिखो सज़ा ये

करता शायरी, पर किस तरह का शायर हूँ मैं?
मैं आख़िर किस मिज़ाज का? ख़ुद की समझ से बाहिर हूँ
मैं कुछ तो ज़ाहिर हूँ, शायद इसी में माहिर हूँ
मैं बातें करता हूँ बड़ी या सिर्फ़ एक मुँह का fire हूँ?

रोज़ाना लिखने बैठूँ लफ़्ज़ सफ़ों पे नाचते
क्या ये भी मेरी तरह नशे में घबरी हैं खाँसते
ढूँढूँ अगर तो मुझे मिलती कोई वजह ना
क्यूँ राख हुए पन्ने? गीत इतने आग थे

किसको गवाह बनाऊँ? कोई बचा ना
मैं सीधा आदमी था, आदमी का सगा ना
शेर ज़ख्मी भी शेर है, दो दवा ना
Music बना ये जुनून और दिल कहीं लगा ना

सर-फिरा तो सर क़लम, लौंडे low रहते
Fly mode, जिगर, on the go रहते
तू भाई है तो साथ है, तू साथ रह, तू भाई है
लौंडे ४२०, फिर भी १०० रहते

Uh, ये क़लम काग़ज़ को रास नहीं है
बादल सिरहाना, लेकिन मेरे पास जहाज़ नहीं है
खुली किताब, दुनिया से रखे कोई राज़ नहीं हैं
बाज़ क्यूँ आएँ जब उँगली उठाना लाज़मी है?
दिल को क़ुर्बान किए, अपनों को पहचाने दिए
साथ पूरी army है, rap के लिए जान दी है

Jokhay, गवाह रहना, Talha, तू गवाह है ना?
ये सब बीमार थे, हमसे कहते थे, “दवा देना”
सूखा ये गला मेरा, प्यासे खड़े stage पे
दुनिया वाले देखते, पर हम तो ख़ाली पेट थे
महलों में बैठे साले, डरते वो इस खेत से
पैसा क्या चीज़, अब मैं भारी इनकी जेब पे
Paid hate campaigns, ये लात तेरे पेट पे
शेर को ना छेद बे, सर चढ़ते जैसे beer ये

Rhymes double, मैं करता इनका mind boggle
Wine बगल में, नहीं चाहिए opener, मेरी grind double
Shine पकड़ते हैं शायर, मेरी line पकड़
Director’s cut, baby, AD है तो joint पकड़
Hustle को देना चाहता हूँ अब मैं resign, मगर
Rap यहाँ ना पहुँचता, ना करता डीलें sign अगर

साथ देते, जो अपने हैं वो साथ देते
दाग़ देखे, दिल होते बाग़-बाग़ देखे
जो ख़्वाब देखे वो तो जी रहा मैं आज, बेटे
बाप को है नाज़ मुझपे, यही मेरा ताज, बेटे

मैं तेरा ज़हन, मैं ज़हीन भी
सर पे मेरे काम ज़्यादा, कह लो मुझे team भी
You know, it was all a dream
अब देखूँ अपना bank balance, होता है यक़ीन नहीं

वो मुतअस्सिर मेरी वफ़ा से
ख़ुलूस भरा, हिलता कैसे अपनी जगह से?
वो कैसे मुझे दग़ा दें?
शायरी से ज़र्फ़ दें, भाई, और लिखो सज़ा ये

वो मुतअस्सिर मेरी वफ़ा से
ख़ुलूस भरा, हिलता कैसे अपनी जगह से?
वो कैसे मुझे दग़ा दें?
शायरी से ज़र्फ़ दें, भाई, और लिखो सज़ा ये

Aankhein band, sochein jaari
Kaise bayaan karoon lafzon mein zindgani?
Kaise shaaya karoon aankhon se behta paani?
Kaise bataun hai dikhave ki yeh khush’haali?

Kaanpta jism, jab bhi nikloon khud ki talaash mein
Paas na koi, dekhta tha khud ko apne baap mein
Woh bhi na raha, main kis ko dekhoon apne aap mein?
Ab maa hi mera saaya, warna tha ek zinda laash main

Kya sab la-haasil hai?
Khwahishein thi bahut, zikar karne se ab qaasir hain
Koi yahan kaamil nahi, seekhte khataon se
Mehenge padhe shauq, par hum thehre un par qaadir hain

Zamana naazir hai, gawah mere fun ka
Pyaar milta itna, kya main laayak hoon iss sab ka?
Shukarguzaar hoon ke mile mujhe log aise
Wahi log jinse raabta mera mazboot tha

Jaane iss din ke liye humne din dekhe kaise-kaise
Koi apne naam pe keechad uchaale, aise kaise?
Kuch rishte khoon ke nahi, par hain badh ke khoon se
Ek-dooje ko deke sahara hum khud jaise-taise

Tay kiya safar jidhar ko koi rasta jaata nahi tha
Jinko lagta tha kal tak mujhko ko kuch aata nahi tha
Unhi ke munh se apni taarefein ab sunta hoon main
Batane ke liye shukriya ke kitna umda hoon main

Darasal baat yeh ke humne haalat dekhe
Pal mein palat’te logon ke saron se taj dekhe
Ek baar jo utre dil se, lakh koshish karle phir tu
Ab nahi rukne waala, chaahe roke koi aawaaz deke

Sachchai yeh ke koi nahi mehnat karna chaahta
Sabko chahiye waqt se pehle, had se zyada
Dil mein mail, kaise munh pe banke aate meethe
Peeth peeche bhadwatein, ek-dooje ki khud taangein khenchein

Woh mutaasir meri wafa se
Khuloos bhara, hilta kaise apni jagah se?
Woh kaise mujhe daga dein?
Shayari se zarf dein, bhai, aur likho saza yeh

Woh mutaasir meri wafa se
Khuloos bhara, hilta kaise apni jagah se?
Woh kaise mujhe daga dein?
Shayari se zarf dein, bhai, aur likho saza yeh

Karta shayari, par kis tarah ka shayar hoon?
Main aakhir kis mizaaj ka? Khud ki samajh se baahir hoon
Main kuch toh zaahir hoon, shayad isi mein maahir hoon
Main baatein karta hoon badi ya sirf ek munh ka fire hoon?

Rozana likhne baithoon lafz safon pe naachte
Kya yeh bhi meri tarah nashe mein ghabri hain khaanste?
Dhoondhun agar toh mujhe milti koi wajah na
Kyun raakh hue pannein? Geet itne aag the

Kis ko gawah banaun? Koi bacha na
Main seedha aadmi tha, aadmi ka saga na
Sher zakhmi bhi sher hai, do dawa na
Music bana yeh junoon aur dil kahin laga na

Sir-phira toh sir qalam, launde low rehte
Fly mode, jigar, on the go rehte
Tu bhai hai toh saath hai, tu saath reh, tu bhai hai
Launde 420, phir bhi 100 rehte

Uh, yeh qalam kagaz ko raas nahi hai
Baadal sirhaana, lekin mere paas jahaz nahi hai
Khuli kitaab, duniya se rakhe koi raaz nahi hain
Baaz kyun aayein jab ungli uthana laazmi hai?
Dil ko qurbaan kiye, apno ko pehchaan diye
Saath poori army hai, rap ke liye jaan di hai

Jokhay, gawah rehna, Talha, tu gawah hai na?
Yeh sab beemar the, humse kehte the, “Dawa dena”
Sookha yeh gala mera, pyaase khade stage pe
Duniya wale dekhte, par hum toh khaali pet the
Mehlon mein baithe saale, darte woh iss khet se
Paisa kya cheez, ab main bhaari inki jeb pe
Paid hate campaigns, yeh laat tere pet pe
Sher ko na chhed be, sir chadhte jaise beer yeh

Rhymes double, main karta inka mind boggle
Wine bagal mein, nahi chahiye opener, meri grind double
Shine pakadte hain shayar, meri line pakad
Director’s cut, baby, AD hai toh joint pakad
Hustle ko dena chaahta hoon ab main resign, magar
Rap yahan na pahuchta, na karta dealein sign agar

Saath dete, jo apne hain woh saath dete
Daag dekhe, dil hote baagh-baagh dekhe
Jo khwaab dekhe woh toh jee raha main aaj, bete
Baap ko hai naaz mujhpe, yahi mera taj, bete

Main tera zehen, main zaheen bhi
Sir pe mere kaam zyada, keh lo mujhe team bhi
You know, it was all a dream
Ab dekhoon apna bank balance, hota hai yaqeen nahi

Woh mutaasir meri wafa se
Khuloos bhara, hilta kaise apni jagah se?
Woh kaise mujhe daga dein?
Shayari se zarf dein, bhai, aur likho saza yeh

Woh mutaasir meri wafa se
Khuloos bhara, hilta kaise apni jagah se?
Woh kaise mujhe daga dein?
Shayari se zarf dein, bhai, aur likho saza yeh

Mutaasir Song Details:

Album : Mutaasir
Lyricist(s) : Jokhay, Nabeel Akbar, JJ47, Talhah Yunus
Composers(s) : Jokhay
Music Director(s) : Jokhay
Genre(s) : Hip-Hop/Rap
Music Label : Jokhay
Starring : Jokhay, Talhah Yunus

Mutaasir Song Video:

Popular Albums

ALL

Albums

Similar Artists

ALL

Singers
error: Content is protected !!