Wednesday, April 17, 2024

Jurm Hai

Jurm Hai Lyrics

Jurm Hai is a captivating Urdu Regional Indian masterpiece, brought to life by the artistic prowess of Satinder Sartaaj. The lyrics of the song are penned by Satinder Sartaaj, while its mesmerizing music is composed and produced by Beat Minister. Jurm Hai was released on March 15, 2023. The song has captivated many and is often searched for with the query “Jurm Hai Lyrics”. Adding to its allure, the song features the captivating presence of Satinder Sartaaj & Ramandeep Kaur Dhillon, enhancing the overall appeal of this musical masterpiece. Below, you’ll find the lyrics for Satinder Sartaaj’s “Jurm Hai”, offering a glimpse into the profound artistry behind the song.

Listen to the complete track on Amazon Music

Romanized Script
Native Script

Khoob-ruon ko koi yeh ittelah kar de ke ab
Chashm ki talwaar se yoon waar karna jurm hai
Ghair-waajib hai adaaon se yeh sab dil-doziyaan
In labon se sharbati guftaar karna jurm hai

Khoob-ruon ko koi yeh ittelah kar de ke ab
Chashm ki talwaar se yoon waar karna jurm hai
Ghair-waajib hai adaaon se yeh sab dil-doziyaan
In labon se sharbati guftaar karna jurm hai

Yeh iraade kaunse hain? Kaise yeh aqhlaaq hain?
Yeh iraade kaunse hain? Kaise yeh aqhlaaq hain?
Sitamzadgi ki kataaron mein khade ushshaaq hain

Fitratan waada-faroshi hi agar karni hai toh
Pukhtgi se iss qadar iqraar karna jurm hai
Ghair-waajib hai adaaon se yeh sab dil-doziyaan
In labon se sharbati guftaar karna jurm hai

Ehtiyaatan raabta kariye, guzaarish hai zara
Uss khuda se kam-az-kam dariye, guzaarish hai zara
Ehtiyaatan raabta kariye, guzaarish hai zara
Uss khuda se kam-az-kam dariye, guzaarish hai zara

Ek ho sakte nahi ‘gar dil toh phir zaahir hai ke
Bas shararat se nigaahein chaar karna jurm hai
Ghair-waajib hai adaaon se yeh sab dil-doziyaan
In labon se sharbati guftaar karna jurm hai

Jo maraasim mein mohabbat ki mehek barsayenge
Kashmakash hogi toh woh ehsaas maare jayenge
Jo maraasim mein mohabbat ki mehek barsayenge
Kashmakash hogi toh woh ehsaas maare jayenge

Talkh mausam surkh jazbe ko muaafiq hi nahi
Talkh mausam surkh jazbe ko muaafiq hi nahi
Dekhiye aise gulon ko khaar karna jurm hai
Ghair-waajib hai adaaon se yeh sab dil-doziyaan
In labon se sharbati guftaar karna jurm hai

Jaante hain phir koi imdaad ho na paayegi
Jaante hain phir koi imdaad ho na paayegi
Hijr se veeran rooh aabaad ho na paayegi

Ghair-mumkin hai agar teemardaari aapse
Ishq se, Sartaaj, phir beemar karna jurm hai
Khoob-ruon ko koi yeh ittelah kar de ke ab
Chashm ki talwaar se yoon waar karna jurm hai
Ghair-waajib hai adaaon se yeh sab dil-doziyaan
In labon se sharbati guftaar karna jurm hai

ख़ूब-रुओं को कोई ये इत्तिला’ कर दे कि अब
चश्म की तलवार से यूँ वार करना जुर्म है
ग़ैर-वाजिब है अदाओं से ये सब दिल-दोज़ियाँ
इन लबों से शर्बती गुफ़्तार करना जुर्म है

ख़ूब-रुओं को कोई ये इत्तिला’ कर दे कि अब
चश्म की तलवार से यूँ वार करना जुर्म है
ग़ैर-वाजिब है अदाओं से ये सब दिल-दोज़ियाँ
इन लबों से शर्बती गुफ़्तार करना जुर्म है

ये इरादे कौनसे हैं? कैसे ये अख़्लाक़ हैं?
ये इरादे कौनसे हैं? कैसे ये अख़्लाक़ हैं?
सितमज़दगी की क़तारों में खड़े उश्शाक़ हैं

फ़ितरतन वादा-फ़रोशी ही अगर करनी है तो
पुख़्तगी से इस क़दर इक़रार करना जुर्म है
ग़ैर-वाजिब है अदाओं से ये सब दिल-दोज़ियाँ
इन लबों से शर्बती गुफ़्तार करना जुर्म है

एहतियातन राब्ता करिए, गुज़ारिश है ज़रा
उस ख़ुदा से कम-अज़-कम डरिए, गुज़ारिश है ज़रा
एहतियातन राब्ता करिए, गुज़ारिश है ज़रा
उस ख़ुदा से कम-अज़-कम डरिए, गुज़ारिश है ज़रा

एक हो सकते नहीं ‘गर दिल तो फिर ज़ाहिर है कि
बस शरारत से निगाहें चार करना जुर्म है
ग़ैर-वाजिब है अदाओं से ये सब दिल-दोज़ियाँ
इन लबों से शर्बती गुफ़्तार करना जुर्म है

जो मरासिम में मोहब्बत की महक बरसाएँगे
कश्मकश होगी तो वो एहसास मारे जाएँगे
जो मरासिम में मोहब्बत की महक बरसाएँगे
कश्मकश होगी तो वो एहसास मारे जाएँगे

तल्ख़ मौसम सुर्ख़ जज़्बे को मुआफ़िक़ ही नहीं
तल्ख़ मौसम सुर्ख़ जज़्बे को मुआफ़िक़ ही नहीं
देखिए ऐसे गुलों को ख़ार करना जुर्म है
ग़ैर-वाजिब है अदाओं से ये सब दिल-दोज़ियाँ
इन लबों से शर्बती गुफ़्तार करना जुर्म है

जानते हैं फिर कोई इमदाद हो ना पाएगी
जानते हैं फिर कोई इमदाद हो ना पाएगी
हिज्र से वीरान रूह आबाद हो ना पाएगी

ग़ैर-मुमकिन है अगर तीमारदारी आपसे
इश्क़ से, Sartaaj, फिर बीमार करना जुर्म है
ख़ूब-रुओं को कोई ये इत्तिला’ कर दे कि अब
चश्म की तलवार से यूँ वार करना जुर्म है
ग़ैर-वाजिब है अदाओं से ये सब दिल-दोज़ियाँ
इन लबों से शर्बती गुफ़्तार करना जुर्म है

Song Credits

Singer(s):
Satinder Sartaaj
Album:
Jurm Hai - Single
Lyricist(s):
Satinder Sartaaj
Composer(s):
Satinder Sartaaj
Music:
Beat Minister
Music Label:
Satinder Sartaaj
Featuring:
Satinder Sartaaj & Ramandeep Kaur Dhillon
Released On:
March 15, 2023

Official Video

You might also like

Get in Touch

12,038FansLike
13,982FollowersFollow
10,285FollowersFollow

Other Artists to Explore

Anchit Magee

Greeicy

Rachel Grae

Satinder Sartaaj

Zeph