Select Page

Home Lyrics Jaaneman
Jaaneman

Jaaneman

317 VIEWS
Jaaneman Lyrics | Jaaneman Lyrics in Hindi | Nabeel Akbar

Jaaneman (जान-ए-मन) is an Urdu Rap song by Nabeel Akbar. The song has been produced by Jokhay. Nabeel Akbar’s Jaaneman lyrics in Hindi and in the romanized form are provided below.

Listen to the complete track on YouTube

Yeah

हर दिन जैसे नया इम्तिहान एक
रूप बहुत, मगर रखता ज़बान एक
कभी पलटा नहीं, झूठ पे मैं चलता नहीं
ख़ुद की बनाई मैंने ख़ुद से पहचान एक

जी-जी, हाँ, जानता हूँ जान एक
पी-पी, हम भी पापी पुराने
कैसे जाने दें अब इतने क़रीब होके
सदियों से किए जिसके लिए दिन-रात एक?

मुझे लगा जैसे जी रहा मैं सपने में
अपने में गुम, मुझे रहे मेरा होश नहीं
कोई फ़ायदा नहीं अब पीछे हटने से
हँसने दे, हँसते लोग बातें करें रोज़ नहीं

कोई फ़ायदा नहीं ज़ख्मों को ढकने से
फटने दे, बस से मैं बाहर, मुझे रोक नहीं
क्यूँ मैं पड़ूँ बिलावजह तेरे मसले में?
जब कि तू ख़ुद बोला कि मैं तेरा दोस्त नहीं

है तू भाई मेरा, वफ़ादारी कहाँ है तेरी?
मुँह पे यार, पीछे करता बुराई मेरी
कोई नहीं खड़ा इसी लिए तेरे साथ
अब अकेले तेरी गाँड फटे, तुझे याद आए मेरी

मेरे साथ आज दुनिया गवाही दे रही
मुझे कामयाबी सामने दिखाई दे रही
काश तू भी होता मेरे साथ, मगर क्या करें
लालच में तुझको ले डूबी ख़ुद बुराई तेरी

मैं नहीं वो आशिक़, जो ख़ुद ही को मार डालें हम
मुश्किल थी काफ़ी, पर कभी ना हार मानें हम
जब भी मारें दम, मिट जाएँ सारे ग़म
नज़र तेज़, देखे आर-पार, जान-ए-मन

कल तक मुझे मुँह नहीं लगाती थी
अब बोले कि मैं हूँ ही बस आप ही की
मुद्दे पे आ सीधा, ऐसा भी क्या दिखा तुझे
मतलबी हो तो वो काहे की आशिक़ी?

छोड़ गोल-मोल, सीधी-सीधी बात कर
खोल पर्दे और आ असल औक़ात पर
तुझे पता मुझे नफ़रत झूठ से
सच बोल, चाहे मुझे गाली देके बात कर

वक़्त कितना नादानी में खो दिए
दर्द इतना कि मर्द हो के रो दिए
चाहे बुरा, पूरा खुला
तुझसे कुछ भी नहीं छुपा
सब सामने अब यही है, जो भी है

सब को लगा मुझसे कुछ भी नहीं होगा
रोका-टोका, कोई साथ नहीं था
ख़ुद किया जो किए
चाहे मर के तू पैदा हो जा १०० दफ़ा
कैसे लेगा मेरी जगह?

सोच तेरी छोटी है
मुँह पे हँसी, दिल में ग़म रखते
अब तक खड़े क्योंकि दम रखते
ये तो अब जा के लोग करें प्यार, मेरे यार
वरना हम तो शुरू से आदी नफ़रत के

हाथ मिलाए, कहीं हाथ फ़ैलाए नहीं
साथ तो आएँ कई, साथ निभाएँ नहीं
ख़ुद की कमाई मैंने एक-एक पाई
ये कोई बाप-कमाई नहीं, बाप तो था ही नहीं

मैं नहीं वो आशिक़, जो ख़ुद ही को मार डालें हम
मुश्किल थी काफ़ी, पर कभी ना हार मानें हम
जब भी मारें दम, मिट जाएँ सारे ग़म
नज़र तेज़, देखे आर-पार, जान-ए-मन

Yeah

Har din jaise naya imtihaan ek
Roop bahut, magar rakhta zabaan ek
Kabhi palta nahi, jhoot pe main chalta nahi
Khud ki banayi maine khud se pehchaan ek

Jee-jee, haan, jaanta hoon jaan ek
Pee-pee, hum bhi paapi puraane
Kaise jaane dein ab itne qareeb hoke
Sadiyon se kiye jiske liye din-raat ek?

Mujhe laga jaise jee raha main sapne mein
Apne mein gum, mujhe rahe mera hosh nahi
Koi faayda nahi ab peeche hatne se
Hasne de, haste log baatein karein roz nahi

Koi faayda nahi zakhmon ko dhakne se
Fatne de, bas se main baahar, mujhe rok nahi
Kyun main padoon bilawajah tere masle mein?
Jab ke tu khud bola ki main tera dost nahi

Hai tu bhai mera, wafadaari kahan hai teri?
Munh pe yaar, peeche karta buraai meri
Koi nahi khada isiliye tere saath
Ab akele teri gaand fate, tujhe yaad aaye meri

Mere saath aaj duniya gawaahi de rahi
Mujhe kaamyaabi saamne dikhaayi de rahi
Kaash tu bhi hota mere saath, magar kya karein
Laalach mein tujhko le doobi khud buraai teri

Main nahi woh aashiq, jo khud hi ko maar daalein hum
Mushkil thi kaafi, par kabhi na haar maanein hum
Jab bhi maarein dum, mit jaayein saare gham
Nazar tez, dekhe aar-paar, jaaneman

Kal tak mujhe munh nahi lagati thi
Ab bole ki main hoon hi bas aap hi ki
Mudde pe aa seedha, aisa bhi kya dikha tujhe
Matlabi ho toh woh kaahe ki aashiqui?

Chhod gol-mol, seedhi-seedhi baat kar
Khol parde aur aa asal auqaat par
Tujhe pata mujhe nafrat jhoot se
Sach bol chaahe mujhe gaali deke baat kar

Waqt kitna naadani mein kho diye
Dard itna ki mard ho ke ro diye
Chaahe bura, poora khula
Tujhse kuch bhi nahi chhupa
Sab saamne ab yahi hai, jo bhi hai

Sab ko laga mujhse kuch bhi nahi hoga
Roka-toka, koi saath nahi tha
Khud kiya jo kiye
Chaahe mar ke tu paida ho ja 100 dafa
Kaise lega meri jagah?

Soch teri chhoti hai
Munh pe hasi dil mein gham rakhte
Ab tak khade kyonki dam rakhte
Yeh to ab jaa ke log karein pyaar, mere yaar
Warna hum toh shuru se aadi nafrat ke

Haath milaaye, kahin haath failaaye nahi
Saath toh aayein kayi, saath nibhayein nahi
Khud ki kamaai maine ek-ek paai
Yeh koi baap-kamaai nahi, baap toh tha hi nahi

Main nahi woh aashiq, jo khud hi ko maar daalein hum
Mushkil thi kaafi, par kabhi na haar maanein hum
Jab bhi maarein dum, mit jaayein saare gham
Nazar tez, dekhe aar-paar, jaaneman

Jaaneman Song Details:

Album : 4Love
Lyricist(s) : Nabeel Akbar
Composers(s) : Nabeel Akbar
Music Director(s) : Jokhay
Genre(s) : Hip-Hop/Rap
Music Label : Nabeel Akbar
Starring : Nabeel Akbar

Jaaneman Song Video:

Popular Albums

ALL

Albums

Similar Artists

ALL

Singers
error: Content is protected !!