Wednesday, February 28, 2024

Divya Drishti

Divya Drishti Lyrics

Divya Drishti is a captivating Hindi Hip-Hop/Rap masterpiece, brought to life by the artistic prowess of DeeVoy Singh. The lyrics of the song are penned by DeeVoy Singh, while its mesmerizing music is composed and produced by Pendo46. Divya Drishti was released on January 30, 2023. The song has captivated many and is often searched for with the query “Divya Drishti Lyrics”. Below, you’ll find the lyrics for DeeVoy Singh’s “Divya Drishti”, offering a glimpse into the profound artistry behind the song.

Listen to the complete track on Amazon Music

Romanized Script
Native Script

Har-Har Mahadev, main hoon bairagi, Bhole, teri wajah se hoon
Main premi hoon, main paapi hoon, main maal pee ke maje mein hoon
Main nashe mein hoon itna jyada ki bure karam bhi theek lagein
Dhan-daulat maine jo bhi kamaaya, woh sab mujhko bheekh lage

Kabhi nirdayi toh kabhi dayavaan, kabhi hoon dara toh kabhi bhayavah
Main madira-paan ka aadi hoon, khud se khud main barbaadi hoon
Mere kabhi vichaar shaitanon se, aur kabhi vichaar hain sadhu ke
Kabhi-kabhi mann shaant yeh rehta, kabhi-kabhi beqaabu hai

Shraddha aur sadbhav rahe toh ho jaata hoon paavan main
Par bhog-vilas aur madira-paan se ban jaata hoon Raavan main
Maas pake jab bakre ka, hum raakshas ban kar khaayein use
Par beqasoor kisi pashu ki hatya kabhi-kabhi na bhaaye mujhe

Ek shareer hai, do manushya lagta mere bheetar rehte hain
“Vinaashkaale vipreet buddhi” sab kundli dekh ke kehte hain
Ek toh hai seedha bada, aur doosra bahut hi paapi hai
Meri harkaton se bas pata chale kab kaun sa mujh par haavi hai

Main jaanoon na kuch bhi ab toh yeh kalesh jo mujh par aaya hai
Yeh upaj hai mere dimaag ki ya kisi bhoot-pret ka saaya hai?
Koi urja hai nakaaratmak si, mehsoos karoon main aas-paas mein
Samajh mein jeevan na aaye toh dekhta hoon main aasmaan mein

Vichaar ko apne shuddh karoon, badlaav bhi hote karmon se
Ab duniyadari se naata tod ke aaya Bhole sharnon mein
“Astitv manushya ka chhota kitna,” soch ke main yeh kaanp diya
Phir aankhein moondkar dhyaan kiya, brahmaand ko maine naap diya

Dimaag mein gyaan sansaar ka na, par buddhi ko ekaant kara
Main padhta gaya, main padhta gaya, maine buddhi mein brahmaand bhara
Main shunya bana, main shaant bana, DeeVoy se main Devansh bana
Main likhta gaya, main likhta gaya, ab koi lagaam vichaar pe na

Vichaar koi nakaaratmak sa ab padta na mann par bhaari
Ab baat karein sannaate mujhse meri hi bankar vaani
Main prithvi hoon, main ambar hoon, main panchtatva ka hoon gyaani
Main agni hoon, main vaayu hoon, main sab jaanoon, antaryaami

Ek khuli hui main kitaab sa hoon, man-ghadat kahaani banata nahi
Main pralay hoon, main abhishaap sa hoon, ‘gar baras padun toh thikana nahi
Main nadiyon ke sailaab sa hoon, ufaan karoon toh kinara nahi
Main padh toh leta dimaag bhi hoon, kabhi aankhon se aankhein milana nahi

Dimaag mein gyaan sansaar ka na, par buddhi ko ekaant kara
Main padhta gaya, main padhta gaya, maine buddhi mein brahmaand bhara
Main shunya bana, main shaant bana, DeeVoy se main Devansh bana
Main likhta gaya, main likhta gaya, ab koi lagaam vichaar pe na

हर-हर महादेव, मैं हूँ बैरागी, भोले, तेरी वजह से हूँ
मैं प्रेमी हूँ, मैं पापी हूँ, मैं माल पी के मजे में हूँ
मैं नशे में हूँ इतना ज्यादा कि बुरे करम भी ठीक लगें
धन-दौलत मैंने जो भी कमाया, वो सब मुझको भीख लगे

कभी निर्दई तो कभी दयावान, कभी हूँ डरा तो कभी भयावह
मैं मदिरा-पान का आदी हूँ, ख़ुद से ख़ुद मैं बर्बादी हूँ
मेरे कभी विचार शैतानों से, और कभी विचार हैं साधु के
कभी-कभी मन शांत ये रहता, कभी-कभी बेक़ाबू है

श्रद्धा और सद्भाव रहे तो हो जाता हूँ पावन मैं
पर भोग-विलास और मदिरा-पान से बन जाता हूँ रावण मैं
मास पके जब बकरे का, हम राक्षस बनकर खाएँ उसे
पर बेक़सूर किसी पशु की हत्या कभी-कभी ना भाए मुझे

एक शरीर है, दो मनुष्य लगता मेरे भीतर रहते हैं
“विनाशकाले विपरीत बुद्धि” सब कुंडली देख के कहते हैं
एक तो है सीधा बड़ा, और दूसरा बहुत ही पापी है
मेरी हरकतों से बस पता चले कब कौन सा मुझ पर हावी है

मैं जानूँ ना कुछ भी अब तो ये कलेश जो मुझ पर आया है
ये उपज है मेरे दिमाग़ की या किसी भूत-प्रेत का साया है?
कोई ऊर्जा है नकारात्मक सी, महसूस करूँ मैं आसपास में
समझ में जीवन ना आए तो देखता हूँ मैं आसमान में

विचार को अपने शुद्ध करूँ, बदलाव भी होते कर्मों से
अब दुनियादारी से नाता तोड़ के आया भोले शरणों में
“अस्तित्व मनुष्य का छोटा कितना,” सोच के मैं ये काँप दिया
फ़िर आँखें मूँदकर ध्यान किया, ब्रह्मांड को मैंने नाप दिया

दिमाग़ में ज्ञान संसार का ना, पर बुद्धि को एकांत करा
मैं पढ़ता गया, मैं पढ़ता गया, मैंने बुद्धि में ब्रह्मांड भरा
मैं शून्य बना, मैं शांत बना, DeeVoy से मैं Devansh बना
मैं लिखता गया, मैं लिखता गया, अब कोई लगाम विचार पे ना

विचार कोई नकारात्मक सा अब पड़ता ना मन पर भारी
अब बात करें सन्नाटे मुझसे मेरी ही बनकर वाणी
मैं पृथ्वी हूँ, मैं अंबर हूँ, मैं पंचतत्व का हूँ ज्ञानी
मैं अग्नि हूँ, मैं वायु हूँ, मैं सब जानूँ, अंतर्यामी

एक खुली हुई मैं किताब सा हूँ, मन-घड़त कहानी बनाता नहीं
मैं प्रलय हूँ, मैं अभिशाप सा हूँ, ‘गर बरस पड़ूँ तो ठिकाना नहीं
मैं नदियों के सैलाब सा हूँ, उफ़ान करूँ तो किनारा नहीं
मैं पढ़ तो लेता दिमाग़ भी हूँ, कभी आँखों से आँखें मिलाना नहीं

दिमाग़ में ज्ञान संसार का ना, पर बुद्धि को एकांत करा
मैं पढ़ता गया, मैं पढ़ता गया, मैंने बुद्धि में ब्रह्मांड भरा
मैं शून्य बना, मैं शांत बना, DeeVoy से मैं Devansh बना
मैं लिखता गया, मैं लिखता गया, अब कोई लगाम विचार पे ना

Song Credits

Singer(s):
DeeVoy Singh
Album:
Divya Drishti - Single
Lyricist(s):
DeeVoy Singh
Composer(s):
DeeVoy Singh & Pendo46
Music:
Pendo46
Genre(s):
Music Label:
DeeVoy Singh
Featuring:
DeeVoy Singh
Released On:
January 30, 2023

Official Video

You might also like

Get in Touch

12,038FansLike
13,982FollowersFollow
10,285FollowersFollow

Other Artists to Explore

Zeph

Sidhu Moose Wala

Sabrina Carpenter

Hailee Steinfeld

Mukesh