Select Page

Home Lyrics Jashn-E-Bahara
Jashn-E-Bahara

Jashn-E-Bahara

65 VIEWS
Jashn E Bahara Lyrics | Javed Ali

Jashn-E-Bahara (जश्न-ए-बहारा) is a Hindi song from the movie Jodha Akbar, the lyrics of the song are penned by Javed Akhtar, whereas Javed Ali has lent his voice to the song and the song has been composed by the Music Maestro A.R. Rahman. Jashn E Bahara lyrics in Hindi and in the romanized form are provided below.

Listen to the complete track on Spotify

कहने को जश्न-ए-बहारा है, इश्क़ ये देख के हैराँ है
कहने को जश्न-ए-बहारा है, इश्क़ ये देख के हैराँ है
फूल से खुशबू ख़फ़ा-ख़फ़ा है गुलशन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

सारे सहमे नज़ारे हैं, सोए-सोए वक्त के धारे हैं
और दिल में खोई-खोई सी बातें हैं, हो-हो

कहने को जश्न-ए-बहारा है, इश्क़ ये देख के हैराँ है
फूल से खुशबू ख़फ़ा-ख़फ़ा है गुलशन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

कैसे कहें क्या है सितम? सोचते हैं अब ये हम
कोई कैसे कहे वो हैं या नहीं हमारे?
करते तो हैं साथ सफ़र, फ़ासले हैं फिर भी मगर
जैसे मिलते नहीं किसी दरिया के दो किनारे

पास हैं, फिर भी पास नहीं
हम को ये ग़म रास नहीं
शीशे की एक दीवार है जैसे दरमियाँ

सारे सहमे नज़ारे हैं, सोए-सोए वक्त के धारे हैं
और दिल में खोई-खोई सी बातें हैं, हो-हो

कहने को जश्न-ए-बहारा है, इश्क़ ये देख के हैराँ है
फूल से खुशबू ख़फ़ा-ख़फ़ा है गुलशन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

हमने जो था नग़मा सुना, दिल ने था उसको चुना
ये दास्तान हमें वक्त ने कैसी सुनाई?
हम जो अगर हैं ग़मगीं, वो भी उधर खुश तो नहीं
मुलाक़ातों में है जैसे घुल सी गई तनहाई

मिल के भी हम मिलते नहीं
खिल के भी गुल खिलते नहीं
आँखों में हैं बहारें, दिल में ख़िज़ाँ

सारे सहमे नज़ारे हैं, सोए-सोए वक्त के धारे हैं
और दिल में खोई-खोई सी बातें हैं, हो-हो

कहने को जश्न-ए-बहारा है, इश्क़ ये देख के हैराँ है
फूल से खुशबू ख़फ़ा-ख़फ़ा है गुलशन में
छुपा है कोई रंज फ़िज़ा की चिलमन में

Kehne ko jashn e bahara hai, ishq yeh dekh ke hairaan hai
Kehne ko jashn e bahara hai, ishq yeh dekh ke hairaan hai
Phool se khushboo khafa-khafa hai gulshan mein
Chhupa hai koi ranj fiza ki chilman mein

Saare sehme nazaare hain, soye-soye wakt ke dhaare hain
Aur dil mein khoi-khoi si baatein hain, ho-ho

Kehne ko jashn e bahara hai, ishq yeh dekh ke hairaan hai
Phool se khushboo khafa-khafa hai gulshan mein
Chhupa hai koi ranj fiza ki chilman mein

Kaise kahein kya hai sitam? Sochte hain ab yeh hum
Koi kaise kahe woh hain ya nahi humare?
Karte toh hain saath safar, faasle hain phir bhi magar
Jaise milte nahi kisi dariya ke do kinare

Paas hain, phir bhi paas nahi
Hum ko yeh gam raas nahi
Sheeshe ki ek deewar hai jaise darmiyan

Saare sehme nazaare hain, soye-soye wakt ke dhaare hain
Aur dil mein khoi-khoi si baatein hain, ho-ho

Kehne ko jashn e bahara hai, ishq yeh dekh ke hairaan hai
Phool se khushboo khafa-khafa hai gulshan mein
Chhupa hai koi ranj fiza ki chilman mein

Humne jo tha nagma suna, dil ne tha usko chuna
Yeh daastaan humein wakt ne kaisi sunai?
Hum jo agar hain gamgeen, woh bhi udhar khush toh nahi
Mulaqaton mein hai jaise ghul si gayi tanhaai

Mil ke bhi hum milte nahi
Khile ke bhi gul khilte nahi
Aankho mein hain bahaarein, dil mein khizaan

Saare sehme nazaare hain, soye-soye wakt ke dhaare hain
Aur dil mein khoi-khoi si baatein hain, ho-ho

Kehne ko jashn e bahara hai, ishq yeh dekh ke hairaan hai
Phool se khushboo khafa-khafa hai gulshan mein
Chhupa hai koi ranj fiza ki chilman mein

Jashn-E-Bahara Song Details:

Album : Jashn-E-Bahara
Singer(s) : Javed Ali
Lyricist(s) : Javed Akhtar
Composers(s) : A.R. Rahman
Music Director(s) : A.R. Rahman
Genre(s) : Bollywood
Music Label : Sony Music India
Starring : Aishwarya Rai, Hrithik Roshan

Jashn-E-Bahara Song Video:

Popular Albums

ALL

Albums

Similar Artists

ALL

Singers