Monday, May 20, 2024

Toh Kaisa Ho

Toh Kaisa Ho Lyrics

Toh Kaisa Ho is a captivating Urdu Regional Indian masterpiece, brought to life by the artistic prowess of Satinder Sartaaj. The lyrics of the song are penned by Satinder Sartaaj, while its mesmerizing music is composed and produced by Beat Minister. Toh Kaisa Ho was released on April 12, 2023. The song has captivated many and is often searched for with the query “Toh Kaisa Ho Lyrics”. Adding to its allure, the song features the captivating presence of Satinder Sartaaj & Sabby Suri, enhancing the overall appeal of this musical masterpiece. Below, you’ll find the lyrics for Satinder Sartaaj’s “Toh Kaisa Ho”, offering a glimpse into the profound artistry behind the song.

Listen to the complete track on Amazon Music

Romanized Script
Native Script

Agar ghazala ko yeh tera naaz mile toh kaisa ho
Agar shagoofon ko tera andaaz mile toh kaisa ho
Agar ghazala ko yeh tera naaz mile toh kaisa ho
Agar shagoofon ko tera andaaz mile toh kaisa ho

Mohabbat mein agar farishton ki koi taufeeq lage
Mumqin hai ke humko phir yeh falak bahut nazdeek lage
Mohabbat mein agar farishton ki koi taufeeq lage
Mumqin hai ke humko phir yeh falak bahut nazdeek lage

Abr humein neeche se dekhein, khush hokar aadaab kahein
Abr humein neeche se dekhein, khush hokar aadaab kahein
Agar tasavvur ko itni parvaaz mile toh kaisa ho
Agar ghazala ko yeh tera naaz mile toh kaisa ho
Agar shagoofon ko tera andaaz mile toh kaisa ho

Abhi khayalon mein bhi jo yoon hosh uda le jaate hain
Abhi khayalon mein bhi jo yoon hosh uda le jaate hain
Shokh ada se kaise woh khaamosh uda le jaate hain

Main yeh baat tasavvur karke hi hairaan ho jaata hoon
Main yeh baat tasavvur karke hi hairaan ho jaata hoon
Ke roo-ba-roo agar khwaabon ki Mumtaz mile toh kaisa ho
Agar ghazala ko yeh tera naaz mile toh kaisa ho
Agar shagoofon ko tera andaaz mile toh kaisa ho

Tum jab beparvaai mein halke se bhi kuch gaati ho
Tum jab beparvaai mein halke se bhi kuch gaati ho
Baatein bhi afsaanon jaisi, aalam yoon mehkaati ho

Jisko sunke har dil ek masarrat haasil karta hai
Jisko sunke har dil ek masarrat haasil karta hai
Koyal ko ‘gar teri yeh aavaaz mile toh kaisa ho
Agar ghazala ko yeh tera naaz mile toh kaisa ho
Agar shagoofon ko tera andaaz mile toh kaisa ho

Khoob tarannum chhede aur jo naghmo ka humsafar bane
Khoob tarannum chhede aur jo naghmo ka humsafar bane
Ulfat ki iss jung-o-mehfil mein aashiq ka zafar bane
Khoob tarannum chhede aur jo naghmo ka humsafar bane
Ulfat ki iss jung-o-mehfil mein aashiq ka zafar bane

Uski nazmon aur tarzon ko dil-aavez bana de jo
Uski nazmon aur tarzon ko dil-aavez bana de jo
‘Gar Sartaaj ko aisa koi saaz mile toh kaisa ho
Agar ghazala ko yeh tera naaz mile toh kaisa ho
Agar shagoofon ko tera andaaz mile toh kaisa ho

अगर ग़ज़ाला को ये तेरा नाज़ मिले तो कैसा हो
अगर शगूफ़ों को तेरा अंदाज़ मिले तो कैसा हो
अगर ग़ज़ाला को ये तेरा नाज़ मिले तो कैसा हो
अगर शगूफ़ों को तेरा अंदाज़ मिले तो कैसा हो

मोहब्बत में अगर फ़रिश्तों की कोई तौफ़ीक़ लगे
मुमक़िन है कि हमको फिर ये फ़लक बहुत नज़दीक लगे
मोहब्बत में अगर फ़रिश्तों की कोई तौफ़ीक़ लगे
मुमक़िन है कि हमको फिर ये फ़लक बहुत नज़दीक लगे

अब्र हमें नीचे से देखें, ख़ुश होकर आदाब कहें
अब्र हमें नीचे से देखें, ख़ुश होकर आदाब कहें
अगर तसव्वुर को इतनी पर्वाज़ मिले तो कैसा हो
अगर ग़ज़ाला को ये तेरा नाज़ मिले तो कैसा हो
अगर शगूफ़ों को तेरा अंदाज़ मिले तो कैसा हो

अभी ख़यालों में भी जो यूँ होश उड़ा ले जाते हैं
अभी ख़यालों में भी जो यूँ होश उड़ा ले जाते हैं
शोख़ अदा से कैसे वो ख़ामोश उड़ा ले जाते हैं

मैं ये बात तसव्वुर करके ही हैराँ हो जाता हूँ
मैं ये बात तसव्वुर करके ही हैराँ हो जाता हूँ
कि रू-ब-रू अगर ख़्वाबों की मुमताज़ मिले तो कैसा हो
अगर ग़ज़ाला को ये तेरा नाज़ मिले तो कैसा हो
अगर शगूफ़ों को तेरा अंदाज़ मिले तो कैसा हो

तुम जब बेपरवाई में हल्के से भी कुछ गाती हो
तुम जब बेपरवाई में हल्के से भी कुछ गाती हो
बातें भी अफ़सानों जैसी, आलम यूँ महकाती हो

जिसको सुनके हर दिल एक मसर्रत हासिल करता है
जिसको सुनके हर दिल एक मसर्रत हासिल करता है
कोयल को ‘गर तेरी ये आवाज़ मिले तो कैसा हो
अगर ग़ज़ाला को ये तेरा नाज़ मिले तो कैसा हो
अगर शगूफ़ों को तेरा अंदाज़ मिले तो कैसा हो

ख़ूब तरन्नुम छेड़े और जो नग़्मों का हमसफ़र बने
ख़ूब तरन्नुम छेड़े और जो नग़्मों का हमसफ़र बने
उल्फ़त की इस जंग-ओ-महफ़िल में आशिक़ का ज़फ़र बने
ख़ूब तरन्नुम छेड़े और जो नग़्मों का हमसफ़र बने
उल्फ़त की इस जंग-ओ-महफ़िल में आशिक़ का ज़फ़र बने

उसकी नज़्मों और तर्ज़ों को दिल-आवेज़ बना दे जो
उसकी नज़्मों और तर्ज़ों को दिल-आवेज़ बना दे जो
‘गर सरताज को ऐसा कोई साज़ मिले तो कैसा हो
अगर ग़ज़ाला को ये तेरा नाज़ मिले तो कैसा हो
अगर शगूफ़ों को तेरा अंदाज़ मिले तो कैसा हो

Song Credits

Singer(s):
Satinder Sartaaj
Album:
Toh Kaisa Ho - Single
Lyricist(s):
Satinder Sartaaj
Composer(s):
Satinder Sartaaj
Music:
Beat Minister
Music Label:
Satinder Sartaaj
Featuring:
Satinder Sartaaj & Sabby Suri
Released On:
April 12, 2023

Official Video

You might also like

Get in Touch

12,038FansLike
13,982FollowersFollow
10,285FollowersFollow

Other Artists to Explore

Sabrina Carpenter

Nicki Minaj

Aima Baig

Taylor Swift

Hina Nasrullah