Monday, February 26, 2024

Tu Hai Kahan

Chal Chal Tu Apni Mai Tujhe Pehchan Lunga Lyrics

Tu Hai Kahan is a captivating Urdu Indie Pop masterpiece, brought to life by the artistic prowess of AUR. The lyrics of the song are penned by Ahad Khan & Usama Ali, while the production credits go to Raffey Anwar. Tu Hai Kahan was released on October 16, 2023. The song has captivated many and is often searched for with the query “Chal Chal Tu Apni Mai Tujhe Pehchan Lunga Lyrics”. Below, you’ll find the lyrics for AUR’s “Tu Hai Kahan”, offering a glimpse into the profound artistry behind the song.

Listen to the complete track on Amazon Music

Romanized Script
Native Script

You belong right in this moment
I’m falling fast
My heart you just stole it
Don’t bother asking
Everything’s right with me
As long as you stay with me

Ki jab main had se aage badh gaya tha aashiqi mein
Yaani zindagi ko le raha mazaak hi mein
Phir mazaak hi mein mil gaya sab khaak hi mein
Chhookar aaya manzilein toh tanha tha main vaapsi mein

Jaise phool tode honge tumne jholi bhar ke
Main woh phool jo ki reh gaya tha shaakh hi mein
Jaise khwaab hi mein khwaab-gaah hain aankh hi mein
Pal se pal mein kya hua? Tum reh gaye bas yaad hi mein

Ek sawaal machalta hai mere dil mein kabhi
Tujhe main bhool jaaun ya tujhe main yaad karoon?
Tujhi ko soch ke likhta hoon jo bhi likhta hoon
Ab likh raha hoon to phir kyun na ek sawaal karoon?

Main iss sawaal se gham ko badal doon khushiyon mein
Par in bejaan si khushiyon se kya kamaal karoon?
Par ab sawaal bhi kamaal, tu sambhaal le filhaal
Ye zawaal, bichha jaal, kya main chaal chaloon?

Chaal chal tu apni, main tujhe pehchaan loonga
Main apni mehfilon mein sirf tera hi naam loonga
Tujhe pasand hai dheema lehja aur bas khamoshiyan
Main tere khaatir apni khud ki saansein thaam loonga

Kya tere saare aansu mere ho sakte hain?
Aisa hai toh tere khaatir hum bhi ro sakte hain
Mere khaatir mere rone par ab tum bas has dena ek baar
Teri muskurahat ke peeche hum sab kuch kho sakte hain

Kya meri mohabbaton ka koi hisaab nahi hai?
Kyun tere aankhon mein mere liye koi khwaab nahi hain?
Tujhe kya hi karoon ghamzada, ab jaane de
Ki tere paas mere pyaar ka jawaab nahi hai

Kitni muddatein hui hain, tumne khat kyun nahi bheja?
Gaa leta hoon tere liye, mausiqi nahi hai pesha
Aane ki khabar hi nahi tere ab
Ab kya mausamon se poochun tere aane ka andesha?

Aankhon mein aansu nahi hain, kahan hai tu? Kahan tu nahi hai?
Dil ko ab yeh jaan’na hi nahi, bas tum chale aao

Tu hai kahan?
Khwaabon ke iss sheher mein mera dil tujhe dhoondhta, dhoondhta
Arsa hua
Tujhko dekha nahi, tu na jaane kahan chhup gaya, chhup gaya

Aao, phir se hum chalein
Thaam lo yeh haath, kar do kam yeh faasle
Na pata ho manzilon ka, na hon raaste
Tu ho, main hoon, baithein dono phir hum taaron ke tale

Na subah ho phir, na hi din dhale
Kuch na keh sakein, kuch na sun sakein
Baatein saari woh dil mein hi rahein
Tumko kya pata hai kya ho tum mere liye?

Kehkashaan ho tum
Kahaaniyon ki pariyon ki tarah ho tum
Mujhmein aa sake na koi, iss tarah ho tum
Ho yaqeen tum mera, ya phir gumaan ho tum

Aashiyaan ho tum
Main bhatka sa musafir aur makaan ho tum
Meri manzilon ka ek hi raasta ho tum
Dhoondhta hai dil tujhe, bata kahan ho tum

Ho jahan kahin bhi
Aao paas taaki aansu mere tham sakein
Yaad aa rahe ho tum mujhe ab har lamhe
Aisi zindagi ka kya, jo tum
Zindagi mein hoke meri zindagi na ban sake?

Sochta rahoon ya bhool jaaun ab tumhein?
Tum mil hi na sakoge toh phir kaise chaahoon ab tumhein?
Tere saare khwaab pal mein jod denge
Jismein tu hi na basega, phir woh dil hi tod denge

Chhod denge woh sheher ki jismein tum na hoge
Toot jaayenge makaan woh saare hasraton ke
Guzre pal jo saath tere woh pal hain bas sukoon ke
Mil lo ab tum iss tarah se ki phir nahi miloge

Tu hi tha saath mein mere, kaise main jiyunga akele?
Taare gin-gin ke ho gayi hai subah

Tu hai kahan?
Khwaabon ke iss sheher mein mera dil tujhe dhoondhta, dhoondhta
Arsa hua
Tujhko dekha nahi, tu na jaane kahan chhup gaya, chhup gaya

You belong right in this moment
I’m falling fast
My heart you just stole it
Don’t bother asking
Everything’s right with me
As long as you stay with me

You belong right in this moment
I’m falling fast
My heart you just stole it
Don’t bother asking
Everything’s right with me
As long as you stay with me

कि जब मैं हद से आगे बढ़ गया था आशिक़ी में
यानी ज़िंदगी को ले रहा मज़ाक ही में
फिर मज़ाक ही में मिल गया सब ख़ाक ही में
छूकर आया मंज़िलें तो तन्हा था मैं वापसी में

जैसे फूल तोड़े होंगे तुमने झोली भर के
मैं वो फूल जो कि रह गया था शाख़ ही में
जैसे ख़्वाब ही में ख़्वाब-गाह हैं आँख ही में
पल से पल में क्या हुआ? तुम रह गए बस याद ही में

एक सवाल मचलता है मेरे दिल में कभी
तुझे मैं भूल जाऊँ या तुझे मैं याद करूँ?
तुझी को सोच के लिखता हूँ जो भी लिखता हूँ
अब लिख रहा हूँ तो फिर क्यूँ ना एक सवाल करूँ?

मैं इस सवाल से ग़म को बदल दूँ ख़ुशियों में
पर इन बेजान सी ख़ुशियों से क्या कमाल करूँ?
पर अब सवाल भी कमाल, तू सँभाल ले फ़िलहाल
ये ज़वाल, बिछा जाल, क्या मैं चाल चलूँ?

चाल चल तू अपनी, मैं तुझे पहचान लूँगा
मैं अपनी महफ़िलों में सिर्फ़ तेरा ही नाम लूँगा
तुझे पसंद है धीमा लहजा और बस ख़ामोशियाँ
मैं तेरे ख़ातिर अपनी ख़ुद की साँसें थाम लूँगा

क्या तेरे सारे आँसू मेरे हो सकते हैं?
ऐसा है तो तेरे ख़ातिर हम भी रो सकते हैं
मेरे ख़ातिर मेरे रोने पर अब तुम बस हँस देना एक बार
तेरी मुस्कुराहट के पीछे हम सब कुछ खो सकते हैं

क्या मेरी मोहब्बतों का कोई हिसाब नहीं है?
क्यूँ तेरी आँखों में मेरे लिए कोई ख़्वाब नहीं हैं?
तुझे क्या ही करूँ ग़मज़दा, अब जाने दे
कि तेरे पास मेरे प्यार का जवाब नहीं है

कितनी मुद्दतें हुई हैं, तुमने ख़त क्यूँ नहीं भेजा?
गा लेता हूँ तेरे लिए, मौसीक़ी नहीं है पेशा
आने की ख़बर ही नहीं तेरे अब
अब क्या मौसमों से पूछूँ तेरे आने का अंदेशा?

आँखों में आँसू नहीं हैं, कहाँ है तू? कहाँ तू नहीं है?
दिल को अब ये जानना ही नहीं, बस तुम चले आओ

तू है कहाँ?
ख़्वाबों के इस शहर में मेरा दिल तुझे ढूँढता, ढूँढता
अरसा हुआ
तुझको देखा नहीं, तू ना जाने कहाँ छुप गया, छुप गया

आओ, फिर से हम चलें
थाम लो ये हाथ, कर दो कम ये फ़ासले
ना पता हो मंज़िलों का, ना हों रास्ते
तू हो, मैं हूँ, बैठें दोनों फिर हम तारों के तले

ना सुबह हो फिर, ना ही दिन ढले
कुछ ना कह सकें, कुछ ना सुन सकें
बातें सारी वो दिल में ही रहें
तुमको क्या पता है क्या हो तुम मेरे लिए?

कहकशाँ हो तुम
कहानियों की परियों की तरह हो तुम
मुझमें आ सके ना कोई, इस तरह हो तुम
हो यक़ीन तुम मेरा, या फिर गुमाँ हो तुम

आशियाँ हो तुम
मैं भटका सा मुसाफ़िर और मकाँ हो तुम
मेरी मंज़िलों का एक ही रास्ता हो तुम
ढूँढता है दिल तुझे, बता कहाँ हो तुम

हो जहाँ कहीं भी
आओ पास ताकि आँसू मेरे थम सकें
याद आ रहे हो तुम मुझे अब हर लम्हे
ऐसी ज़िंदगी का क्या, जो तुम
ज़िंदगी में होके मेरी ज़िंदगी ना बन सके?

सोचता रहूँ या भूल जाऊँ अब तुम्हें?
तुम मिल ही ना सकोगे तो फिर कैसे चाहूँ अब तुम्हें?
तेरे सारे ख़्वाब पल में जोड़ देंगे
जिसमें तू ही ना बसेगा, फिर वो दिल ही तोड़ देंगे

छोड़ देंगे वो शहर कि जिसमें तुम ना होगे
टूट जाएँगे मकाँ वो सारे हसरतों के
गुज़रे पल जो साथ तेरे वो पल हैं बस सुकूँ के
मिल लो अब तुम इस तरह से कि फिर नहीं मिलोगे

तू ही था साथ में मेरे, कैसे मैं जियूँगा अकेले?
तारे गिन-गिन के हो गई है सुबह

तू है कहाँ?
ख़्वाबों के इस शहर में मेरा दिल तुझे ढूँढता, ढूँढता
अरसा हुआ
तुझको देखा नहीं, तू ना जाने कहाँ छुप गया, छुप गया

You belong right in this moment
I’m falling fast
My heart you just stole it
Don’t bother asking
Everything’s right with me
As long as you stay with me

Song Credits

Singer(s):
AUR
Album:
Tu Hai Kahan - Single
Lyricist(s):
Ahad Khan & Usama Ali
Composer(s):
Ahad Khan & Usama Ali
Music:
Raffey Anwar
Genre(s):
Music Label:
Sony Music Entertainment
Featuring:
AUR
Released On:
October 16, 2023

Official Video

You might also like

Get in Touch

12,038FansLike
13,982FollowersFollow
10,285FollowersFollow

Other Artists to Explore

Dhvani Bhanushali

Karol G

Melanie Martinez

Ashley Cooke

Ashley Kutcher