Sunday, May 26, 2024

Shikayat

Shikayat Lyrics

Shikayat is a captivating Urdu Pop masterpiece, brought to life by the artistic prowess of AUR. The lyrics of the song are penned by Usama Ali & Ahad Khan, while the production credits go to Raffey Anwar. Shikayat was released on December 16, 2023. The song has captivated many and is often searched for with the query “Shikayat Lyrics”. Below, you’ll find the lyrics for AUR’s “Shikayat”, offering a glimpse into the profound artistry behind the song.

Listen to the complete track on Amazon Music

Romanized Script
Native Script

Zakhm dil pe hai, dawa karo
Aao, mil ke rasm-e-mohabbat ada karo
Kuch na kar sako mere liye
Toh bas khwaabon mein hi mujhse mil liya karo

Aa milo kahin mujhse
Ke ummidein kuch baaqi hain meri tumse
Na jaane hasrat hi rahi ho tum meri
Ke shayad yeh din aakhiri ho
Hum khwahish mein mar jaayein

Aa milo kahin mujhse
Ke ummidein kuch baaqi hain meri tumse

Le chalo wahan mujhe
Main dekhta hoon aasmaan mein bhi ab tujhe
Dekha ek roz taara toot ke gaya
Maangi bhi duaayein, par haan tu nahi mila

Woh aaya hi nahi jo ek dafa gaya
Woh door itna ho gaya, main dekh na saka
Hai dhoondhta wajah ab dil yeh bewajah
Hai toota is tarah se dil ke phir nahi laga

Toh aa milo kahin, oh, mere humnasheen
Main ab bhi hoon akela, yeh tu samjha kyun nahi?
Wajood dillagi ki aarzoo nahi
Mohabbat toh wahi hai jo ke milti hi nahi

Mohabbaton mein jhoom loon, main kya karun bata
Main mubtila gham mein ya main gham ki hoon dawa?
Main baddua hoon, ya dua hoon, ya main hoon saza?
Ab tu bata ke main hoon ya phir tu hai laapata, tu bata

Laapata ho gaye humare liye tum
Itna chaaha ke tum bewafa ho gaye
Jaana, bhoolna tha tumhein, Khuda ki qasam
Haath jab bhi uthe, tum dua ho gaye

Honthon pe dua hai, waqt tham nahi raha
Tu na mil saka, tu bas nazam mein hi raha
Duniya ki mohabbaton ne sab badal diya
Tera gham ajeeb hai, woh wahin ka wahin raha

Bhoolna main chaah raha tha tujhko is tarah
Na teri jagah koi ho, na ho tu wahan
Ab teri talash mein pata chala mujhe
Tumse hi shuru hai raat, tumse hi subah

Tu mil gayi toh ja milegi zindagi mujhe
Jo tu nahi toh chahiye kuch nahi mujhe
Khwaab, tu ehsaas, tu hi raat, tu subah
Kaat dunga zindagi main dekh ke tujhe

Dekh le mujhe
Yeh kat rahi hai zindagi ab dekh ke tujhe
Toot hi gaya hoon, tu samet le mujhe
Samet le mujhe, kahin bikhar na jaaun main

Toh aao na
Mere aansu ko pochho aur phir se rulaao mujhe
Mera sab kuch hai tere liye

Toh aao na
Dil ki baatein karo aur phir se sataao mujhe
Mera sab kuch hai tere liye

Mil jaaun main tumhein agar raaston mein kahin
Tum rasman hi pooch lena mujhse haal mera
Main muskurakar, gham chhupa kar hi jawaab doonga
Main yahi karta aaya hoon, ye hai kamaal mera

ज़ख़्म दिल पे है, दवा करो
आओ, मिल के रस्म-ए-मोहब्बत अदा करो
कुछ ना कर सको मेरे लिए
तो बस ख़्वाबों में ही मुझसे मिल लिया करो

आ मिलो कहीं मुझसे
कि उम्मीदें कुछ बाक़ी हैं मेरी तुमसे
ना जाने हसरत ही रही हो तुम मेरी
कि शायद ये दिन आख़िरी हो
हम ख़्वाहिश में मर जाएँ

आ मिलो कहीं मुझसे
कि उम्मीदें कुछ बाक़ी हैं मेरी तुमसे

ले चलो वहाँ मुझे
मैं देखता हूँ आसमान में भी अब तुझे
देखा एक रोज़ तारा टूट के गया
माँगी भी दुआएँ, पर हाँ तू नहीं मिला

वो आया ही नहीं जो एक दफ़ा गया
वो दूर इतना हो गया, मैं देख ना सका
है ढूँढता वजह अब दिल ये बेवजह
है टूटा इस तरह से दिल कि फिर नहीं लगा

तो आ मिलों कहीं, ओ, मेरे हमनशीं
मैं अब भी हूँ अकेला, ये तू समझा क्यूँ नहीं?
वजूद दिल्लगी की आरज़ू नहीं
मोहब्बत तो वही है जो कि मिलती ही नहीं

मोहब्बतों में झूम लूँ, मैं क्या करूँ बता
मैं मुब्तिला ग़म में या मैं ग़म की हूँ दवा?
मैं बददुआ हूँ, या दुआ हूँ, या मैं हूँ सज़ा?
अब तू बता कि मैं हूँ या फिर तू है लापता, तू बता

लापता हो गए हमारे लिए तुम
इतना चाहा कि तुम बेवफ़ा हो गए
जानाँ, भूलना था तुम्हें, ख़ुदा की क़सम
हाथ जब भी उठे, तुम दुआ हो गए

होंठों पे दुआ है, वक़्त थम नहीं रहा
तू ना मिल सका, तू बस नज़म में ही रहा
दुनिया की मोहब्बतों ने सब बदल दिया
तेरा ग़म अजीब है, वो वहीं का वहीं रहा

भूलना मैं चाह रहा था तुझको इस तरह
ना तेरी जगह कोई हो, ना हो तू वहाँ
अब तेरी तलाश में पता चला मुझे
तुमसे ही शुरू है रात, तुमसे ही सुबह

तू मिल गई तो जा मिलेगी ज़िंदगी मुझे
जो तू नहीं तो चाहिए कुछ नहीं मुझे
ख़्वाब, तू एहसास, तू ही रात, तू सुबह
काट दूँगा ज़िंदगी मैं देख के तुझे

देख ले मुझे
ये कट रही है ज़िंदगी अब देख के तुझे
टूट ही गया हूँ, तू समेट ले मुझे
समेट ले मुझे, कहीं बिखर ना जाऊँ मैं

तो आओ ना
मेरे आँसू को पोंछो और फिर से रुलाओ मुझे
मेरा सब कुछ है तेरे लिए

तो आओ ना
दिल की बातें करो और फिर से सताओ मुझे
मेरा सब कुछ है तेरे लिए

मिल जाऊँ मैं तुम्हें अगर रास्तों में कहीं
तुम रस्मन ही पूछ लेना मुझसे हाल मेरा
मैं मुस्कुराकर, ग़म छुपाकर ही जवाब दूँगा
मैं यही करता आया हूँ, ये है कमाल मेरा

Song Credits

Singer(s):
AUR
Album:
Shikayat - Single
Lyricist(s):
Usama Ali & Ahad Khan
Composer(s):
Usama Ali, Ahad Khan & Raffey Anwar
Music:
Raffey Anwar
Genre(s):
Music Label:
Sony Music Entertainment
Featuring:
AUR
Released On:
December 16, 2023

Official Video

You might also like

Get in Touch

12,038FansLike
13,982FollowersFollow
10,285FollowersFollow

Other Artists to Explore

Snow Patrol

Greeicy

Mukesh

Ashley Kutcher

Maluma